कैथोड रे टयूब (सीआरटी) मॉनिटर

कैथोड रे टयूब (सीआरटी) मॉनिटर




अनुकूल तर्क:
  1. उच्च गतिशील रेंज (लगभग 15,000:1 तक),[2] उत्कृष्ट रंग, व्यापक दृश्यता और कालेपन का निम्न स्तर. सीआरटी के रंगों की
  2. व्यापकता, ओएलईडी को छोड़कर अन्य किसी भी प्रकार के डिस्प्ले के पास नहीं है।
  3. लगभग सभी रिजोल्यूशन तथा रिफ्रेश रेट में स्थानीय तौर पर डिस्प्ले कर सकता है।
  4. कोई इनपुट अंतराल नहीं
  5. अत्यंत कम प्रतिक्रिया समय
  6. लगभग शून्य रंग, सेचुरेशन, कंट्रास्ट या चमक विरूपण. देखने का उत्कृष्ट कोण.
  7. एलसीडी या प्लाज्मा स्क्रीन की अपेक्षा आमतौर पर अधिक सस्ता.
  8. प्रकाश बंदूक/कलम के प्रयोग की अनुमति देता है

प्रतिकूल तर्क:
  1. बड़ा आकार और वजन, विशेष रूप से बड़े स्क्रीन के लिए (एक 20 इंच यूनिट का वजन लगभग 50 पाउन्ड (23 किग्रा) होता है)
  2. उर्जा की अत्यधिक खपत
  3. चलते समय काफी अधिक मात्रा में गर्मी उत्पन्न करता है
  4. विविध बीम ट्रेवल दूरियों के कारण होने वाला ज्यामितीय विरूपण
  5. इसकी स्क्रीन जल सकती है
  6. निम्न रिफ्रेश रेट पर उल्लेखनीय झिलमिलाहट उत्पन्न करता है
  7. सामान्य रूप से केवल 4:3 पक्ष अनुपात में उत्पादन किया जाता है (हालांकि कुछ वाइडस्क्रीन भी मौजूद हैं, जैसे विशेष रूप से सोनी FW900)
  8. मरम्मत/सेवा खतरनाक होती है
  9. प्रभावी ऊर्ध्वाधर रिजोल्यूशन, 1024 स्कैन लाइनों तक ही सीमित है।
  10. कलर डिस्प्लेज को 7 इंच से छोटे आकार में नहीं बनाया जा सकता है (मोनोक्रोम के लिए 5 इंच) अधिकतम आकार 24 इंच के आसपास है (कंप्यूटर मॉनिटर के लिए; टीवी 40 इंच तक के हो सकते हैं).