चौथी पीढ़ी

चौथी पीढ़ी

चौथी पीढ़ी की अवधि 1971-1985 थी

चोथी पीढ़ी के कंप्यूटरों में माइक्रोप्रोसेसर का प्रयोग किया गया ! वी.एस.एल.आई. की प्राप्ति से एकल चिप हजारों ट्रांजिस्टर लगाए जा सकते थे| चौथी पीढ़ी के कम्प्यूटर्स में एक एकल चिप पर लगभग 5000 ट्रांजिस्टर और अन्य सर्किट एलिमेंट्स तथा बड़े पैमाने पर उनसे सम्बंधित एकीकृत VLSI सर्किट का उपयोग किया गया । चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर अधिक शक्तिशाली, कॉम्पैक्ट, विश्वसनीय तथा सस्ते थे । इसके परिणाम स्वरुप पर्सनल कंप्यूटर (पीसी) क्रांति का जन्म हुआ।
इस पीढ़ी में रियल टाइम नेटवर्क डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग किया गया था ।
सभी उच्च स्तरीय भाषाओँ जैसे की आदि का प्रयोग इस पीढ़ी में हुआ ।

चौथी पीढ़ी की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं:

l वीएलएसआई प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल
l बहुत सस्ते
l पोर्टेबल और विश्वसनीय
l पीसी का उपयोग
l बहुत छोटे आकार
l पाइपलाइन प्रसंस्करण
l इंटरनेट की अवधारणा को पेश किया गया
l नेटवर्क के क्षेत्र में बहुत अधिक विकास
l कंप्यूटर आसानी से उपलब्ध हो गया

इस पीढ़ी के कुछ कंप्यूटर थे:

स्टार 1000
पीडीपी 11
क्रे -1 (सुपर कम्प्यूटर)
क्रे एक्स (सुपर कम्प्यूटर)